“माना” चैक पोस्ट – सीमा दर्शन कार्यक्रम

सीमा जागरण मंच दिल्ली इकाई का 13 सदस्यीय दल — (1) श्री सूरज वधवा, महामंत्री, सीमा जागरण मंच, (2) श्री संतोष कुमार, संयोजक नेपाल सीमा, एवं (3) श्री कृष्ण लाल गोसाई, कार्यकर्ता सीमा जागरण मंच, पटेल नगर दिल्ली के नेतृत्व में सीमा दर्शन : “माना” चैक पोस्ट भारत – चीन सीमा के लिए 23 मई को दिल्ली से रवाना हुआ। इस दल में महिला कार्यकर्त्ताओं ने भी भाग लिया।

दल हरिद्वार, ऋषिकेश होते हुए 23 मई के रात को गौचर पहुँचा और रात में गौचर, ‘भारत-तिब्ब्त सीमा पुलिस’ के कैंप में गुजारी। सुबह 24 मई के तड़के भारत-तिब्ब्त सीमा पुलिस के कुछ जवानो से बातचीत करके बद्रीनाथ और माना चेक पोस्ट के लिए प्रस्थान किया। बद्रीनाथ के रास्ते में एक गाँव द्रोण में चाय की दुकान पर गाँव के एक युवक से चर्चा हुई। चर्चा के दौरान उन्हें ‘सीमा जागरण मंच’ के बारे में जानकर दी गई। बाद में गाँव के ही एक युवक, जिनका नाम राजेंद्र राणा था, ने अपने गाँव में सीमा जागरण मंच की गतिविधियों को बढ़ाने का वादा किया और इस सन्दर्भ में आगे दिल्ली सीमा जागरण मंच से संपर्क में रहने का भी वादा किया। दल लगभग 2 बजे बद्रीनाथ पहुँच गया। वहाँ भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के सहयोग से दल के सभी सदस्यों ने बद्रीनाथ जी के आनंद पूर्वक दर्शन का लाभ लिया।

इसके उपरांत इंस्पेक्टर मनोज रावत (भारत-तिब्ब्त सीमा पुलिस) दल को अपने साथ भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के अधिकार वाले भारत के अंतिम गाँव माना के चेक पोस्ट पर ले गए। वहाँ पर भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के डिप्टी कमांडेंट, चेक पोस्ट इंचार्ज श्री भूपेंद्र गोसाईं ने दल का स्वागत किया। तदुपरांत सीमा जागरण मंच एवं भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के प्रतिनिधियों के बीच एक बैठक हुई जिसमें दल की ओर से श्री सूरज वधवा, श्री संतोष कुमार एवं श्री कृष्ण लाल गोसाई ने और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस की ओर से डिप्टी कमांडेंट श्री भूपेंद्र गोसाईं, चेक पोस्ट संचार प्रमुख, श्री बहुगुना एवं श्री यादव ने भाग लिया।

मीटिंग में निम्नाकिंत बातो पर चर्चा हुई —

सबसे पहले डिप्टी कमांडेंट को सीमा जागरण मंच के उद्देशयों की जानकरी दी गई और उन्हें मंच के ब्रोचर (विवरणिका) एवं पत्रिका की एक कॉपी भेट की गई। उसके बाद चेक पोस्ट के समस्याओं के बारे में चर्चा हुई। जवानों ने भी अपनी वयक्तिगत एवं सरकारी समस्यों के बारे में बताया। उनकी मुख्य समस्या जो निकल कर आयी वो थी टेलीकॉम नेटवर्क के आभाव में जवानों की घर पर बात नहीं हो पाना। वहाँ पर केवल भारत संचार निगम एवं एयरटेल के नेटवर्क हैं जो काफी बिगड़े हुए रहते हैं। इससे जवानों को अपने घरों और अपने बेस कैंप से संपर्क करने में काफी परेशानी होती है। जवानों ने इसके निदान हेतु कुछ करने का अनुरोध किया।

इसके अलावा जवानों ने काम की अधिकता, मूलभूत सुविधाओं का चेक पोस्ट पर अभाव, विषम परिस्तिथियों के बारे में बताया। अधिकतर मौसम ख़राब रहने के बावजूद भी उनके जज्बे में कभी कोई कमी नहीं आती। टोली नेता श्री सूरज वधवा जी ने उनकी बातो को उठाने का आस्वाशन दिया। श्री संतोष कुमार जो की टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी से जुड़े हैं और भारत संचार निगम के अधिकारी हैं उन्होने नेटवर्क से जुड़ी समस्यओं को जल्द से जल्द दूर करने का अस्वाशन दिया। श्री सूरज वधवा जी ने जवानो एवं लोकल निवासियों के बीच बेहतर तालमेल हेतु पोस्ट पर कुछ एंटरटेनिंग कार्यक्रम का भी प्रस्ताव रखा, जिसका जवानो ने स्वागत किया। बैठक में चाय और स्नैक्स भी परोसे गए और जवानों ने दल के सदस्यों के साथ फोटो भी खिचवाए।

बैठक के उपरांत मंच के सदस्यों ने भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के जोशीमठ कैंप में रात्रि विश्राम किया। सवेरे जोशीमठ के बेस कमांडेंट श्री विक्रांत के साथ एक छोटी सी मुलाकत कर के उन्हें सीमा जागरण मंच का ब्रोचर दिया ओर मंच के उदेश्यों के बारे मे बता कर विदा ली। 25 मई को दल हरिद्वार होता हुआ 26 मई को दिल्ली लौट आया।

कुछ तस्वीरें —

About भारत-चीन सीमा ब्यूरो

View all posts by भारत-चीन सीमा ब्यूरो →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *