रोहिंग्या आतंकियों द्वारा हिंदुओं के नरसंहार पर अमेरिका चाहता है विश्वसनीय जाँच

म्यान्मार में अराकान रोहिंग्या सॉल्वेशन आर्मी (ए॰आर॰एस॰ए॰) द्वारा कथित तौर पर हिंदू ग्रामीणों की हत्या को लेकर मानवाधिकार संगठन ऐमनेस्टी इंटरनैशनल की रिपोर्ट पर अमेरिका ने गहरी चिंता जताई। इस रिपोर्ट पर अमेरिका ने कहा कि म्यामांर के अशांत राखाइन प्रांत में मानवाधिकार उल्लंघन के मामलों में विश्वसनीय और निष्पक्ष जांच की अविलंब आवश्यकता है।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘अराकान रोहिंग्या सॉल्वेशन आर्मी (ए॰आर॰एस॰ए॰) द्वारा हिंदू ग्रामीणों की हत्या से संबद्ध ऐमनेस्टी की रिपोर्ट से हम बेहद व्यथित हैं। इस रिपोर्ट ने राखाइन प्रांत में हुई हिंसा को लेकर विश्वसनीय और निष्पक्ष जांच की तत्काल आवश्यकता पर भी जोर दिया है। जाँच के द्वारा ठोस आधार पर सभी तथ्यों को निर्धारित कर म्यामांर हिंसा के दोषियों की जवाबदेही सुनिश्चित हो और पीड़ितों को न्याय मिले।’

प्रवक्ता ने बताया , ‘अमेरिका इस तरह की रिपोर्ट का लगातार समर्थन करता रहेगा। ’ इस सप्ताह शुरुआत में ऐमनेस्टी इंटरनैशनल ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि बंदूक और तलवारों से लैस रोहिंग्या सशस्त्र विद्रोहियों का समूह 99 हिंदू महिलाओं, पुरूषों और बच्चों के नरसंहार के साथ अगस्त 2017 में अन्य लोगों की हत्याओं के लिये जिम्मेदार है। बहरहाल बर्मा टास्क फोर्स ने ऐमनेस्टी की इस रिपोर्ट की निंदा की है। इस बीच अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने म्यामांर में कथित जातीय सफाये के मुद्दे के समाधान के लिए नैशनल डिफेंस अथॉराइजेशन ऐक्ट, 2019 पारित किया है।

About भारत-म्यान्मार सीमा ब्यूरो

View all posts by भारत-म्यान्मार सीमा ब्यूरो →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *